Home शेरो-शायरी

शेरो-शायरी

दीवार खड़ी हो गयी | Ghazal

दीवार खड़ी हो गयी ( Deewar khadi ho gayi )   उतरेगा वो फलक से सबकी नज़र रही। उम्मीद वस्ल-ए-खास की अक्सर जब़र रही। कहने को तुम सही थे...

परेशाँ | Ghazal preshan

परेशाँ ही इसलिए ये दिमाग़ है मेरा ( Pareshan hi isliye ye dimag hai mera )     परेशाँ  ही  इसलिए  ये  दिमाग़ है मेरा ख़ुशी के पल जिंदगी...

दिल ने पुकारा तुमको | Ghazal

दिल ने पुकारा तुमको ( Dil ne pukara tumko )   प्यार भरी धड़कनों ने किया खूब इशारा तुमको दिल की आवाज है यह दिल ने पुकारा तुमको   आ...

सुनिए सब आपके रु- ब- रु है ग़ज़ल | Ghazal

सुनिए सब आपके रु- ब -रु है ग़ज़ल ( Suniye sab aap ke ru-ba-ru hai ghazal )     सुनिए सब आपके रु ब रु है ग़ज़ल होठों पे...

जज्बात | Jazbaat ghazal

जज्बात ( Jazbaat )     उमड़ते मन के भावों को दिशा कोई दे दीजिए प्यार थोड़ा ही सही जनाब प्यार थोड़ा कीजिए   दिल के हो जज्बात प्यारे लबों तक...

ग़मो का मिला वो ख़िताब है | Sad shayari

ग़मो का मिला वो ख़िताब है ( Gamo ka mila wo khitab hai )     हाँ  यार  ग़मो  का  मिला वो ख़िताब है अब जीस्त में मिली...

उठ रही ख़ुशबू फ़ूलों से ख़ूब है | Ghazal

उठ रही ख़ुशबू फ़ूलों से ख़ूब है ( Uth rahi khushboo phoolon se khoob hai )   उठ रही ख़ुशबू फ़ूलों से ख़ूब है बस रहा कोई सांसों...

मुझे अच्छाई का रास्ता दिखाता है | Ghazal

मुझे अच्छाई का रास्ता दिखाता है! ( Mujhe acchai ka rasta dikhata hai )     मुझे  अच्छाई  का  रास्ता दिखाता है! जमीर मेरा मुझे आइना दिखाता है   कभी  पूरे...

तुम अजीज हो | Ghazal

तुम अजीज हो ( Tum aziz ho )     तुम अजीज हो खास हमारे एहसास हो गया दूर होकर भी हो पास हमारे  विश्वास हो गया   अल्फाज आपके दिला...

दिल में मेरे बसी आरजू बनके वो | Ghazal

दिल में मेरे बसी आरजू बनके वो ( Dil mein mere basi aarzoo banke wo )     दिल में मेरे बसी आरजू बनके वो आती होठों पे ही...