Chhand in Hindi
Chhand in Hindi

चुगली रस

( Chugli Ras )

मनहरण घनाक्षरी

 

चुगलखोर कान में,
भरते रहते बात।
चुगली रस का सदा,
रसपान वो करें।

 

कैकई कान की कच्ची,
मंथरा की मानी बात।
चौदह वर्ष राम को,
वनवास जो करें।

 

चिकनी चुपड़ी बातें,
मीठी मीठी बोलकर।
कानाफूसी पारंगत,
चुगलियां वो करें।

 

चुगली निंदा जो करे,
नारद उपाधि पाए।
सुख शांति घर-घर,
हर लिया वो करें।

?

कवि : रमाकांत सोनी सुदर्शन

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

यह भी पढ़ें :- 

रात ना होती | Raat na hoti | Kavita

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here