तुम अजीज हो
तुम अजीज हो

तुम अजीज हो

( Tum aziz ho )

 

 

तुम अजीज हो खास हमारे एहसास हो गया
दूर होकर भी हो पास हमारे  विश्वास हो गया

 

अल्फाज आपके दिला देते हैं एहसास आपका
शब्दों का जादू ऐसा की मन का उजास हो गया

 

यह फासले यह दूरियां अब बाधक नहीं है यार
मिलना तुमने चाहा तो हमें एहसास हो गया

 

कह दो तमन्ना अपने दिल की खुलकर मेरे यार
कह ना सकोगे तुम मगर दोस्त उदास हो गया

 

 

   ?

कवि : रमाकांत सोनी

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

यह भी पढ़ें :-

वक्त नहीं लोगों के दामन में | Waqt poem in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here