अधरों पर मुस्कान है कविता
अधरों पर मुस्कान है कविता

अधरों पर मुस्कान है कविता

( Adharon par muskan hai kavita )

 

अधरों पर मुस्कान है कविता
कवि ह्दय के भाव है कविता
उर  पटल  पर  छाप छोड़ती
सप्त सुरों की शान है कविता

 

वाणी का उद्गार है कविता
वीणा की झंकार है कविता
छू  जाती  मन  के तारों को
देशभक्ति का गान है कविता

 

तख्तो  ताज  हिला सकती है
दिल पर राज करा सकती है
कवि मंचों की जान है कविता
शब्द शिल्प गुण खान है कविता

 

अखबारों में असर दिखाती
पत्रिकाओं में प्रखर हो जाती
सदा तिरंगा शान है कविता
देशभक्ति का भान है कविता

 

सत्ता को संभाले रखती
राष्ट्रदीप की जोत जलाती
रही तिरंगा शान है कविता
राष्ट्र का गुणगान है कविता

 

दर्द  भरा  गीत  रचती है
प्रेम  भरी  प्रीत  रचती है
भारती का मान है कविता
शहीदों का सम्मान है कविता

 

दिल की बातें दिल तक जाती
मन के भाव जन-जन पहुंचाती
शब्द शिल्प गुण खान है कविता
वाणी  का  गुणगान  है  कविता

 

?

 

कवि : रमाकांत सोनी

नवलगढ़ जिला झुंझुनू

( राजस्थान )

कवि परिचय
नाम रमाकांत सोनी
पिता का नाम स्वर्गीय श्यामसुंदर सोनी
माता का नाम कलावती देवी
जन्म स्थान नवलगढ़ जिला झुंझुनू राजस्थान
निवास का पता नानसा गेट के पास नवलगढ़ जिला झुंझुनू
ईमेल आईडी [email protected]
लेखन व सृजन विधा वीर रस, देश भक्ति गीत, दोहा, छंद, मुक्तक
विशिष्ट सम्मान व पुरस्कार
आनंद कला मंच एवं शोध संस्थान भिवानी काव्य रचना सम्मान
साहित्य संगम संस्थान राजस्थान से काव्य सुधांशु सम्मान
मातृका विवेक साहित्य मंच द्वारा काव्य शिरोमणि सम्मान
साहित्यिक मित्र मंडल जबलपुर से कलम योद्धा सम्मान
वाह वाह क्या बात है मंच से काव्य गौरव सम्मान
साझा संकलन
संदर्श शिखा नवलगढ़
ईश्वर का अनुपम उपहार बेटियां प्राज्ञ साहित्य
अभिव्यक्ति काव्य संग्रह
काव्य मोती
हौसला काव्य संग्रह
साहित्य रचना ई पत्रिका
काव्य सागर ई पत्रिका
ढूंढाणी बातें ई पत्रिका
काव्य सरिता ई पत्रिका

काव्य संकलन बुलंद हौसले ई बुक
समाचार पत्रों का पत्रिकाएं
दैनिक नवज्योति
दैनिक अंबर
जन सोनी
भोर की किरण
मैड़ महिलादीप
करंट ज्वाला
संप्रति जांगिड़ अस्पताल नवलगढ़ में प्रशासनिक अधिकारी के पद पर कार्यरत
प्रमाणित किया जाता है कि पुस्तक में सभी रचनाएं मेरी स्वरचित व मौलिक है

यह भी पढ़ें :

Kavita | नारी व्यथा

 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here