Mohan

कैसे कहें

कैसे करें कि हसरतें बयां नहीं होतीं
कैसे कहें कि चाहतें जंवा नहीं होतीं

भले न मिले कहने को अल्फ़ाज कोई
कैसे कहें कि तमन्नाएं रवां नहीं होतीं

जब से देखी है इन आँखों ने हंसी तेरी
कैसे कहूँ की इन आखों में तू नहीं होती

माना कि माकूल नहीं तेरा मिलना यहाँ
बेबसी के आलम मे सबर भी नही होती

मिलना हो मुमकिन कभी ये दुआ रब से
दिल कि ये हसरत कभी कम नहीं होती

खुश रहे, ये सोच के हंस लेते हैं हम
लमहा नहीं जब पलकें नम नहीं होतीं

पूर्णता का भ्रम

यह सच है कि सम्पूर्णता मे हि पूर्णता है
अपूर्णता मे रिक्तता है
किंतु, बदले हुए इस माहौल में
अपूर्णता मे हि सार्थकता है

आधे जल का घडा भरा लगता है
चालबाज हि खरा लगता है.
गलत का विरोध दुश्मनी होती है
न्याय के आँख पर पट्टी बंधी होती है

जिसकी लाठी भैंस उसकी
मजबूर की कहाँ है चलती
अपूर्णता ने हि पहना है चोला पूर्णता का
कहने भर को है सम्पूर्णता मे हि पूर्णता

अपनी अपनी डफली अपना अपना राग
मतलब मे हि लिपट गया है अनुराग
पता नहीं किस खातिर भाग रहे
मची हुयी है बस भागम भाग

पता नहीं होगा कैसा अंत
समझ रहे सब खुद को हि कंत
रहते समय यदि आई नहीं चेत
होगा केवल जल या फिर रेत हि रेत

फर्क एक का

कुछ लोग कहते हैं क्या बदला है
एक के जीत या हार जाने से
फर्क क्या है किसी के आने या जाने से
चलता आया है यही जमाने से

बेशक, न पड़ा हो वहाँ
पड़ भी सकता है कल परसों
एक के आने से हि बदल गई थी व्यवथा
जरूरी तो नहीं कि लग जायें बरसों

एक होता है प्रतिनिधि क्षेत्र का भले
किंतु करता है प्रतिनिधित्व देश का
एक नेता हि नहीं, मतदाता भी
बदल देता है भाग्य देश का

क्या एक राम के राज्याभिषेक ने
किया नहीं उथल पुथल
क्या एक राम से हि,
लंका रह पायी थी अटल

इसी एक से क्या होता है कि सोच ने
गिरा दिया है कितना सनातन को
एक ने हि किया था संकल्प
देश को दिलाने सर्वोच्च आसन

एक का मूल्य समझना होगा
दोष देना नहीं दोषी मानना भी होगा
एक क्षेत्र, एक व्यक्ति, एक प्रति को.
अपने एक के मूल्य को आंकना होगा

जिंदगी

करते तो हैं सभी इश्क जिंदगी से
पर, समझ नहीं पाते रश्क जिंदगी के
रह जाते हैं कुछ ख्यालों में उलझे हुए
समझ लेते हैं कुछ उसूल जिंदगी के

जिंदगी देन भी है प्रारबद्ध की
एक तोहफा भी है कुदरत का
समझ लो तो एक खेल है जिंदगी
मान लो तो बहुत अनमोल है जिंदगी

जो करते हैं इश्क जिंदगी से
उनके लिए एक वरदान है जिंदगी
है चाहत जिन्हे फ़कत आराम की
उनके लिए शमसान है जिंदगी

महज जीने का हि नाम नहीं जिंदगी
खुद के खातिर हि बनी नहीं जिंदगी
प्रकृति की अनुपम कृति है जिंदगी
हर योनियों मे विशिष्ट है जिंदगी

मुक्ति का द्वार भी है जिंदगी
उद्धार का मार्ग है जिंदगी
समझ लो तो तर जाती है जिंदगी
ना समझे तो जीते जी मर जाती है जिंदगी

दर्पण

सोचता हूँ छोड़ दूँ तुम्हे तुम्हारी हाल पर
मजबूर हूँ दिलसे मगर, जो मानता नहीं

समझ रहे तुम, अपनी ही समझ के दायरे से
चाहूँ कहना दिल की, मगर दिल मानता नहीं

भूल जाना था कल को,पर आज को मत भूलो
चाहूँ जगाना नींद से, मगर दिल मानता नहीं

बदलते दौर का वक्त है, समझ लो इस वक्त को
बता दूँ मोल वक्त का, मगर दिल मानता नहीं

सुनो न धुन बीन की, सपेरों की चाल है ये
बताना चाहूँ छल को, मगर दिल मानता नहीं

आश्रित है कल भी, तुम्हारे आज के हि हाथ में
दिखा तो देता दर्पण, मगर दिल मानता नहीं

हिंदी साहित्य में हिंदू

एक उलझन सी मची है दिल में
साहित्य की तलाश हो या साहित्यकार की
सत्य की हो खोज या सरोकार की

साहित्य को तो पढ़ा जा सकता है खरीदकर
साहित्यकार बिकाऊ नहीं होता
मगर भयभीत समाज में
साहित्य को दर्पण सा बनाना नहीं होता

माना कि देश मे प्रजातंत्र है स्वतंत्रता है अभिव्यक्ति की
तब भी क्या वास्तव में साहित्य भी है
अनगिनत हिंदी साहित्य समूहों में तो नहीं

हिंदुस्तान, हिंदी साहित्यिक समूह
हिंदी लेखन, हिंदू लेखक
हिंदुत्व स्वाभिमानी, हिंदू हित की बात
करे यह हिंदी समूह को बर्दास्त नहीं

वर्जित है धार्मिक चर्चा वर्जित है मानसिक
अन्याय की, प्रलोभन की, शोषण की
छूट है , प्रेम , प्यार, मौसम, दिन विशेष की
छूट है विरह, गर्मी, वर्षा की यही पहचान बनी है साहित्य की

समूहों के संचालक हिंदू
हिंदी साहित्य के लेखक हिंदू
हिंदुत्व की बात करे कैसे जब भयभीत हिंदू
विश्व व्यापी हो बन रहा बिंदु, तब भी
है अजर अमर स्वाभिमानी हिंदू
हिंदू हि बन न पाया कभी हिंदू
आज भी है कौन हिंदू कल भी रहेगा कहाँ हिंदू

अगुआई

अपनों ने हि लगा रखी हैं बंदिशें
सत्य बोलना मना है
प्रसंशा करिये दिल खोलकर
विरोध में बोलना मना है

करिये न बात सनातन की
हिंदू हो भले हिंदू होना मना है
हिंदू हि होने नहीं देंगे हिंदू तुम्हे
धार्मिक जड़ों को सींचना मना है

आप सामाजिक हैं सबके
अपने समाज का होना मना है
करे कोई भले घात प्रतिघात
उसकी पोल खोलना मना है

क्षेत्र है साहित्य का, जो आईना है
आईने मे जागना जगाना मना है
चापलूसी की छूट है पूरी
सार्थक बोलना मना है

शुद्ध लेखन होना चाहिए
चले न कलम अपनों पर
भले कल अपनों का रहे न रहे
स्वाभिमान निजता का रहे न रहे

रेस में दौड़ रहे गदहे कुत्ते सभी
गधों की जीत सुनिश्चित होगी.
नोच लेंगे कुत्ते हि कुत्ते को
कुत्ते के लिए कुत्ते अगुआई मना है.

बिकाऊ समाज.

बदलते हुए दौर का वक्त है
जरा संभलकर पैर रखिये
रास्ते कांक्रिट के बन रहे हैं
जमीनी नमी गायब हो रही है

सूरज हि केवल नहीं तप रहा
सोच के लहू मे भी उबाल है
समझने की फितरत अब नहीं
छोटी सी बात मे भी मचा बवाल है

कल के उजाले की फिक्र नहीं रही
आज की मुट्ठी मे चांदनी चाहिए
देख लेंगे वक्त को वक्त आनेपर
वक्त के लिए भी वक्त होना चाहिए

बिक जाता है जमीर एक कप चाय पर
बिकाऊ समाज में भरोसा किसपर
दिखता नहीं सम्मान के पीछे का छल
किससे करें उम्मीद किस बात पर

भूल जाता है पल भर में एहसान किसी का
रहा नहीं काबिल इंसान भरोसे का आज
हुआ नहीं जो राम की नगरी मे राम का
करें क्या नाज उसपर हम आनेवाले कल का

जीना है तो

हक खड़े हो गये हैं सारे
रेत के टीले पर
करें यकीन किसके अपनेपन पर
हो गये हैं कैद अपने जमीर पर

रही नहीं बात कुछ कहने की
सुनने को तैयार नहीं कोई
सबकी अपनी मानसिकता है
लगाव को समझता नहीं कोई

भावनाएं बन गई हैं बुलबुले सी
फूट जाती हैं जरा सी विरोध पर
धैर्य खो गया है अहम मे
सहशीलता रुक गई है अवरोधक पर

बर्दास्त का खून खौलता हुआ है
स्वाभिमान खड़ा लाठी लिए
लिहाज की नौका डूब चुकी है
आदर आ गया है कागज का फूल लिए

चाहते हो बची रहे पत पानी
तो रहो खामोशी के साथ तुम
ओझल है कल सबकी आँखों से यहाँ
जीना है तो जी लो बस आज के संग तुम

केवल

यूँ तो कट हि जाता है वक्त
बीत हि जाती है उम्र
बने हि रहते हैं गिले शिकवे
हाथ रह जाता है केवल सब्र

हर किसी की यही हकीकत है
खुद की बनाई फजीहत है
छिपी है तमाम मैल दिल में
सिर्फ होठों पर नसीहत है

ईमान पर यकीन नहीं
ज़मीर नहीं जमीन नहीं
हवाई महलों के ख़्वाब हैं
पूछो तो बेमिसाल जवाब हैं

दिखती हैं गलतियाँ औरों की
होती हैं बातें गैरों की
फरिश्तों के खानदानी हैं सब
हैरत मे हैं आज रब

जाने क्या हश्र होगा
जाने कब फख्र होगा
वक्त पर हि वक्त की कद्र है
फिर तो केवल कब्र होगा

अक्सर

यह सच है कि आप ईमानदार हैं
रखते नहीं कर्ज का बोझ किसी का
पर, चुका पाएंगे क्या कर्ज एहसान का
समय पर मिले उस वक्त के साथ का

होंगे रहे तब भी हमदर्द कई आपके
हो गये होंगे व्यस्त आपकी जरूरत पर
बढ़कर थाम लिया जिसने तब हाथ आपका
वही कर्ज है आप पर मानवता के धर्म का

चलते नहीं गणित के सिद्धांत हर जगह
लेन देन तो होता है चुकता केवल बहीखाते मे
मानवता हि बांधे रखती है प्रेम के बंधन में
करता है सिद्ध यही, आप अकेले नहीं रास्ते में

देना होगा तुम्हे भी साथ और का इसी तरह
दिया किसी ने तुम्हे तुम्हारे वक्त मे जिस तरह
यही तो है व्यवहार जगत का अनमोल
हल्के हैं इसके आगे दुनियाँ के सारे तोल

बदलते वक्त के साथ बदल जाती है हर बात
सदा एक जैसे रहते नहीं दिन हो या हो रात
समय की सीख से लें कुछ सीख तो बेहतर है
लौटकर आता है फिर वक्त, होता यही असर है

नशा तलब

नशा हर चीज मे होता है
तलब हर चीज की होती है
जीवन खुद भी एक नशा है
जीने की भी तलब होती है

नशा गांजा, भांग, तांबखु हि नहीं
नशा बियर, व्हिस्कि, दारू हि नहीं
नशा तो किसी के इश्क में भी होता है
तलब तो किसी को पा लेने की भी होती है

सुरापान मे हि नशा नहीं होता
धूम्रपान की हि तलब नहीं होती
बात कर लेने का भी नशा होता है
नज़र भर देख लेने की भी तलब होती है

जिंदा रहने को चाहिए भोजन
भोजन का भि नशा होता है
नींद को भी एक नशा हि तो कहेंगे
भटकते रहने की भि तलब होती है

चाहत का नशा भि बहुत बुरा होता है
ज्यादती हो किसी की भी बुरी होती है
धन, सम्मान नाम, घर सब नशा हि तो है
रह न पाएं बिना उसके यही बस तलब होती है

बड़प्पन

टूट जाता है दिल जब बातों से
बहती नहीं तब वो प्रेम की धारा
रिश्ते तो रह जाते हैं कायम मगर
मिट सा जाता है लगाव सारा

हो जाती हैं खामोश उमंग की तरंगे
रुक सी जाती है बढ़ने की हलचल
भरे रहते हैं जल जैसे निर्झर के
किंतु थम सी जाती है कल कल

तमाम कोशिशों के बावजूद भी
ताली एक हाथ से बजती हि नहीं
गाड़ी हो महंगी चाहे जितनी
भाव के इंजिन बिना चलती हि नहीं

बातों से हि रिश्ते कहाँ चलते हैं
उन्हें समझ लेना भी जरूरी होता है
स्वयं के कुछ कहने से पहले
उन्हें सुन लेना भी जरूरी होता है

पूर्णता नहीं किसी मे
जानकर भी कम नहीं किसी से कोई
ये कैसी भूख बड़प्पन की
किसी से झुकता नही कोई

कहाँ गये वो दिन

जब, पढ़ी जाती थिं ऋचायें, वेद पुराण
देते थे सुनाई महाभारत, रामायण
कहाँ गए दादा दादी, और नानी की कहानी
बैठे चौपाल, बूढों मे भी रहती थी जवानी

भाई भतीजे, नात हित, सब रिस्तेदारी
था अपनापन, करते दूजे की रखवारी
प्रेम था लगाव था अपनापन था
थे वो हंसी खुशी के दिन, कहाँ गए वो दिन

हुए वो दिन दुर्लभ, मिटे भाव मन के
जमी मैल मन में, बिखर गये मन के मनके
बोली, भाषा बदल गई, उतर रहे कपड़े तन के
कहाँ गये वो दिन, कहाँ गये!!!!?

खुश हूँ

पहुँचे नहीं हैं यहाँतक
सिर्फ क ख ग घ पढ़ते हुए हि
गिर गए हैं सिर के बाल आधे
इस दुनियाँ को पढ़ते हुए हि

सच है कि कर नहीं पाए फतह
ख्वाहिश थी जिस किले की
इतना तो नाम होगा हि कि
हो गया शहीद लड़ते लड़ते

हो उनकी हि ताजपोशी
चाहत हो जिनको राजपद की
हम तो ठहरे सिपाही जंग के
औकात हमारी छोटे कद की

सेवक हैं वतन के अपने
कर्म हि हमारी पूजा है
बसता है देश हृदय में हमारे
और नहीं कोई दुजा है

स्वेद भी बहाये कलम भी उठी है
वक्त को देखकर हि नींद भी लगी है
पहुँचे हैं सफर के करीब अब
खुश भी हूं कि सांसें भी कम हि बची हैं

भेद

वेदों का अनुकरण करें या न करें
सिद्धांतों का अनुसरण जरूर हो
ज्ञान हो न हो भले व्याकरण का
जीवन का समीकरण जरूर हो

जरूरी नहीं समाज का चिंतन हो
निजता का चिंतन बेहद जरूरी है
सपनों की उड़ान हो चाहे जितनी
उड़ने की हर हद्द मगर जरूरी है

शंकाओं का निराकरण चाहिये
समश्याओं का समाधान जरूरी है
नाप लें चाहे जिस पर्वत की उचाई
आकाश पर भी नज़र का जरूरी है

आज हि आज मे भले जी लें आप
मगर मरकर भी जिंदा रहना जरूरी है
आना जाना तो कर सकते हैं सभी
सदा के लिए दिलों बस जाना जरूरी है

नाम मे हि तो रहती है जान आपकी
काम से हि तो होती है पहचान आपकी
कुछ तो होगा फर्क नर और पशु जीवन में
इसी भेद मे छिपी है सार्थकता आपकी

जरूरी है

महज तदबीर हि काफी नहीं
तकदीर का होना भि जरूरी है
कोई माने या न माने बात को
खुद की रहमत होना भि जरूरी है

मंजिल तक पहुँचने की खातिर
सही दिशा का होना भि जरूरी है
थक जाएं कदम भले चलते चलते
मगर संकल्प का होना भि जरूरी है

मिलते हैं मोड भि अनगिनत राहों में
समझने के लिए विश्राम भि जरूरी है
विकल्प भि होते हैं सहायक कई बार
जटिलता मे कुछ पर्याय भि जरूरी है

सोच हि काफी नहीं सफलता के लिए
मन की दृढ़ता का भि होना जरूरी है
मिलते हैं लोग तो राह मे हर तरह के हि
मगर खुद पर विश्वास का होना भी जरूरी है

होते नहीं एक से हर वक्त के मौसम यहाँ
मौसम को देख बदलना भि जरूरी है
जल्दबाजी मे निकलता नहीं सूरज कभी
वक्त के होने तक ठहरना भी जरूरी है

प्रभावी

हावी होना चाहता है हर आदमी
प्रभावी बने बिना ही
संभव होगा कैसे यह भला
निज करतब के बिना ही

सुंदरता दिखाने में नहीं
बल्कि सुंदर होने मे है
ख्यालों की मिठास से
समंदर का जल मीठा नहीं होता

किताबों में लिखे ज्ञान को
चाटे जा रहे हैं दीमक
और तुम कह रहे हो
अच्छी किताबें मिलती कहाँ हैं!

रंगीन चश्मे से
कुछ भी रंगीन नहीं होता
नंगी आँखों से देखो तो जरा
घर के बर्तन खाली खनक रहे हैं

चलना तो होगा जमीन पर हि
पहाडों पर अनाज नहीं होता
कल के पाले हुए ख्वाब से कभी
किसीका सफल आज नहीं होता

धरातल

रहती हैं स्वागत मे व्याकुल आपके
सफलताएं और संभावनाएं
रास्तो को रहता है इंतजार कदमों का
जरूरी है की आप समझ पाएँ

होती है दूरी तय कदमों से चलकर
मिलते हैं मुकाम लगन से
समय होता नहीं विशेष के लिए
विशेष खुद को हि बनाना होता है

जमीन मे गिरकर हि बीज
छूता है गगन की उचाई
बूँद गिरकर हि बनती है गंगाजल
गिरने में भी विनम्रता जरूरी है

बुनियादी धरातल हो ठोस
तो मकान की उम्र लंबी होगी
हवाओं का भी जरूरी है आना जाना
तालमेल भी बनाये रहना चाहिए

अकड़ कर देती है दो भागों में
लचीलापन हो जाता है खड़ा फिर से
एक आप हि आदमी नहीं काम के
रहती है काबिलियत और के भीतर भी

मसले

घरौंदे के टूट जाने से
दरख़्त टूटा नहीं करते
एक रूठ जाने से
परिवार छूटा नहीं करते
बदलये रहतें हैं हालात समस्याओं के भी
समस्याओं से दिल कभी
छोटा नहीं करते

अंधी के आ जाने पर
बैठ जाना हि उचित है
अपनी सामर्थ्य की परख
खुद को हि करनी होती है
और के कहने पर
शेर से लड़ा नहीं जाता

मुश्किल नहीं होता काम कोई
तब भी
हर काम हर आदमी नहीं कर सकता
हर आदमी हि तैराक हो अगर
तो नाव की जरूरत ही क्या है

जरूरी है रिश्तों की डोर मे
बांधे रखना खुद को
उतार चढ़ाव स्थिति का हो या समझ का
सुलझाने से सुलझ जाते हैं
हर मसले
फिर वो परिवार के हों या जिंदगी के

विफलता

कंचन हो या चंदन
जरुरी है तपना या घिसना
गेहूं को सार्थक होने के लिए
जरूरी है जाँत मे पिसना

मान लो यदि रात को क़ाली
तो रहता है अंधेरा भी रातभर
रहता है सवेरा आँखों में जिनकी
वे हि चल पाते हैं भोर भर

तन अपंग हो तो हो भले
सोच की अपंगता नहीं चाहिए
सफलता मिले या न मिले
धैर्य की विफलता नहीं चाहिए

न हो खून रिश्तों का कभी
न हो आलम मतलबी
अपनों के साथ ही बढें कदम
न हो स्वार्थ की तिशनगी

मौसम की तरह है वक्त भी
ये आता है लौटकर भी
हार की उम्मीद से हो संघर्ष तो
हार जाता है आदमी जीतकर भी

खुद से वादा

गम तो बहुत हैं जिंदगी में
झाड़ झन्खाड से भरी हैं राहें
निकलना है इन्ही मे से तुम्हें
मिलेंगी आगे खुली बाहें

जाल भी अपनों की होगी
बात भी सपनों की होगी
चलना होगा आपको हि
तय करना होगा आपको हि

आकाश भले उपर होगा
पर्वत तो कदमों के तले हि होगा
देखोगे जब नभ की उचाई
तब पर्वत कुछ नहीं होगा

लघुता मे हि श्रेष्ठता है
अपूर्णता से हि पूर्णता है
कर्म से पहले की निराशा हि
समझ की संकीर्णता है

संकल्प से हि सफलता आधी
पहले कदम मे हि तय आधा
लौटना नहीं अब कर्म पथ से
कर लो यही खुद से वादा

सर्वथा

काश ! वो आ गया होता
वह काम बन गया होता
मैं पहुंच गया होता
ऐसे ही न जाने कितने काश!
आते रहते हैं जिंदगी में
जो कभी समाधान नहीं बनते

जाने दीजिए उन्हें
जो गुजर गया वह बीत गया
अमावस की रात मानकर
पूनम की ओर बढिये
एक-एक घड़ी बढ़ेगा उजाला
और आपकी रात भी पूरी चांदनी की होगी

उम्मीद ,भरोसा, गलतफहमी,
इंतजार ,अवसर
ये सारे निरर्थक शब्द है
आ गए तो नसीब अपने
नहीं तो भटकाव के रास्ते हैं

जो भी होगा हासिल
खुद के बलबूते ही होगा
रास्ता कभी नहीं चलता
पथिक के चलने से ही
भगत है दृश्य पीछे और हम
बढ़ते हैं आगे अपने मुकाम तक
सर्वथा यही सत्य और सार्थक भी है

प्रकृति

प्रकृति की छाया तले
होता अनुपम एहसास है
अकेले की तन्हाई में भी
लगता सब आस पास है

नदिया बहती कल कल
झरनों का शीतल जल
छूते नभ को गिरी देखो
होते मन को विवह्ल् देखो

झर झर पवन गीत सुनाते
हर पल्लव ज्यों संगीत बजाते
दूर दूर तक हो फैली आभा
समय साँझ की या हो प्रभा

बसता जीवन प्रकृति की गोद
मधुर मिलन आमोद प्रमोद
नारी जैसी क्या है प्रकृति की
अनमोल धरा पर माया प्रभु की

प्रकृति सुखद प्रकृति हि प्राण
वसुधा से अम्बर प्रकृति जान
सौ सौ बार नमन इस प्रकृति को
प्रकृति हि जीवन का अभिमान

आजमाइश

संभव, प्रोत्साहन, प्रेरणा
मे छिपे अनमोल भावों की
व्याख्या सरल नहीं
किसी शब्द से तुलना नहीं

आजमाकर देखिये कभी
साथ, समय, आर्थिक भले न दे सकें
इन्हे देकर देखिये कभी
प्रतिफल की कल्पना भी नहीं होगी

डूबते को मिले तिनके का मूल्य
बचा व्यक्ति चुका नहीं सकता
तिनका भी कईयों का बन जाता है प्राण दाता
अनुभव लेकर देखिये कभी

प्रेरणा के श्रोत हैं आप
व्यक्ति मे सर्वश्रेष्ठ हैं आप
खुद को भी पहचान कर तो देखिये
मानव बनकर तो देखिये कभी

भूलिए दुखद अतीत को
देखिये वर्तमान से भविष्य को
रात के संघर्ष से निकलकर
देखिये आते सूर्य को कभी

नदी से बूंद

शाखाओं से मिलकर हि
तना भी कहलाता है दरख़्त
अलग होकर तो दोनों हि
केवल ठूंठ कहे जाते हैं

कर लेते हैं इस्तेमाल लोग उसे
अपनी चाहत के जरिये मे
खूबी पेड़ की देती नहीं फल अब
ढल जाती है और की पसंद मे

घर से रिश्ते हों कमजोर
तो पड़ोसी बन जाते हैं अपने
दिखती नहीं जाल दानों के ऊपर
ऐसे में आप शिकार बन जाते हैं

सूरज रोशनी हि नहीं देता
देता है जीवन का दान भी
झुलसा दे बदन को भले
देता है कर्म का सम्मान भी

सागर की और बढ़ती नदी
बँटकर धाराओं में नाला बन जाती है
जुड़ी रही तो सागर कहलाती है
टुकड़ो मे हुयी तो बूंद बन जाती है

चाहत

मिलती नही चाहत कभी
चाहत को जाहिर किये बिना
माना कि मुमकिन नहीं मिलना उसका
पर व्यर्थ है जीना ख्वाहिशों के बिना

प्रेम होती नहीं बाजी जीत हार की
पाने की जगह हि नही इसमे.
बस होता है मिलन भावनाओं का.
तन नही मन के लगाव का नाम प्रेम है

खोजिये साथी कोई अपना
कह सको जिससे बात दिल की
घुटन तो मर्ज है एक जानलेवा
जीने भि नही देती मरने भि नहीं देती

अपाहिज न बनो सोच की अपने
रहे याद मंजिल भी अपनी
बाँट भी लो खुशियाँ प्यार की
सीमा भी बंधी रहे अपनी

हर हृदय कलुषित नही होता
हर निग़ाह दूषित नही होती
होता है निर्भर स्वयं की समझ पर
माना कि हर नदी गंगा नही होती

कोई बिरला तुमसा

मन की बातें रखना मन मे
शब्द न देना तुम उसको
समझ सके ना कोई दर्द हृदय का
समझ रहे तुम अपना किसको

एक अकेले तुम हि नहीं
सबके मन की पीड़ा अपनी
हो सकता है कोई भेद अलग
पर व्यथा सभी की है अपनी

देख रहा आकाश तुम्हें
तुम देख रहे क्यों धरती को
छूना है जाकर गगन तुम्हे
तुम बांध रहे क्यों कथनी को

कोई बात नहीं, कोई एक नहीं
सारा संसार तुम्हारी मंजिल है
कहना उसका उसके साथ रहे
साथ तुम्हारे कर्म तुम्हारा साहिल है

सौरभ सी है महक तुम्हारी
होगा कोई बिरला हि तुमसा
आँखें लाखों लगी हैं तुम पर
तुम देख रहे अब मुह किसका

श्रेष्ठता मे

आपका सहयोग वंदनीय है
किंतु, एक हि डोर पर्याप्त नहीं
जरूरतों को समेट पाने मे
एक हि रास्ता घर तक नही पहुँचता

मंजिल की पहुँच तक के लिए
रास्ते अन्य भी जरूरी हैं.
एक ही फुल की सुगंध से
बाग महका नहीं करते

किसी पर भी आपका
एकाधिकार नहीं, उसपर
विशेषाधिकार का होनाजरूरी है
नीव का पहला पत्थर हि अनमोल है

सोच मे विस्तार चाहिए
लगाव मे सहयोग चाहिए
साथ मे हि चलने की बाध्यता
निजी स्वार्थ कहलाती हैं

सागर को नदियों का जल चाहिते
मेघों सभी जल का श्रोत चाहिए
उड़ने को आकाश चाहिए
श्रेष्ठता मे देने को आशीर्वाद चाहिए

सगा

इस जमाने मे हुआ कौन किसका सगा है
हर किसी ने हि हर किसी को ठगा है

बहन भाई बाप माँ सभी का निजी स्वार्थ है
बनेगी बात कैसे, इसी ख्याल मे रतजगा है

रिश्ते प्रभु से भी रखे हैं मतलब के वास्ते.
करने को हल मसले, कोई दर दर भगा है

बोल मे घुली मिश्री, सोच मे नीम का रस मिला
गिराकर हि बढ़ने की होड़ मे, सारा जग लगा है

आज हि आज की है, सभी को पड़ी यहाँ
आज के खातिर ही, सभी ने सभी को ठगा है

आज का भरोसा क्या जो खड़ा अतीत के द्वार पर
देगा जो साथ अपना, वही तो कल का सगा है

वक्त

वक्त को मत तौलौ किसी के वक्त से
वह तुम्हे भी तौल लेगा तुम्हारे वक्त से.
रखता है ख्याल हर किसी के वक्त का
तौल लेगा तुम्हे भी तुम्हारे आज के वक्त से

वक्त सगा भी नहीं हमदर्द भी नहीं
वफा भी नहीं कोई बेवफाई भी नहीं
कर देता है दूध का दूध पानी का पानी
दरबार में उसके चलती सफाई नही

अमावस पूनम जैसे गतिक्रम् उसका
देता फल सबको देख कर श्रम उसका
चलता नहीं पक्षपात या दबदबा उसपर
स्वत्तंत्र प्रणाली से संचालित क्रम उसका

कर्म ही मूल है आपके निर्मित भाग्य का
धर्म युक्त कर्म ही मूल धर्म मानवता का
संयम, साहस, और व्यवहार कुशलता
करता जन्म सार्थक, हो पास विनम्रता

चला समझकर जिसने चाल वक्त की
वक्त ने भी रखा हरदम खुश हाल उसको
बदलता है रुख अपना वक्त अपने वक्तपर
संभला वही वक्त पर माना जिसने वक्त को

वास्तविकता

अपने ही साथ दें, यह जरूरी नहीं
गैर भी होते हैं बेहतर अपनों से
आपकी संगत का दर्जा ही
करता है निर्णय परिणाम का

रंग तो बाग के हर फुल मे हि है
खुशबु मगर किसी मे
दिखावे की चमक से कभी भी
घर रोशन नहीं होता

आपका व्यवहार और योग्यता ही
तय करती है गुणवत्ता आपकी
आपका वर्तमान ही
गढ़ता है आपके भविष्य को

गलत कोई नहीं होता
उसके सही गलत को बढ़ावा हम देते हैं
पानी कभी किसी की डुबोता नही
हमे ही तैरना नही आता

विष चंदन को प्रभावित नही करता
आप किससे क्या लेते हैं
और किसे क्या देते हैं
यही आपकी वास्तविक पहचान है

वक्त की बेक़दरी

वक्त टलता नहीं कभी
अपनी छाप छोड़े बिना
समझ लेता है वह हकीकत आपकी
बिन आपके कुछ कहे बिना

करता है आगाह जरूर
बेवफा कभी होता नहीं
बेक़दरी कर देते हैं आप उसकी
वक्त के लिए आप हीरे से कम नहीं

आता है वह समक्ष आपके
कभी व्यक्ति के रूप में
कभी उदाहरण के रूप में
आपको समझना है अर्थ मूल रूप में

प्रतीक ही बनते हैं साथी आपके
विवेक जरूरी है आपमें
चलकर किसी और की दिशा में.
भटक जाती है मंजिल आपकी

कौन जानता है भला
आपसे बेहतर आपको
अपने जिम्मेदार आप खुद हैं
गिरना भी संभलना भी आपको

निश्छल प्रेम

महज शब्दों की मिठास से हि
जायेगी न खटास मन की
मानवता की सोच होगी आत्मसात
तब हि कथा सफल जीवन की

ज्ञान भरा हुआ किताबों में
उपदेश धरा सबकी बातों में
समझना होगा जीवन दर्शन को
करना होगा चिंतन और आत्म मंथन को

ज्ञानी वही ज्ञान जिसका हो व्यवहार में
व्यापारी वही जो रहे व्यापार में
दुनिया है नश्वर सब माया जाल है
तब रहते ही क्यों हो संसार में

रहने का कोई तो प्रयोजन होगा
रहे जो विशेष उनका भी जीबन होगा
क्या समय आपका अलग होगा
या नियम परिणाम का अलग होगा

जुड़ाव की भावना हो प्रबल तुममे
नि:स्वार्थ की लगन हो तुममे
करनी कथनी निश्छल हो तुममे
बढ़ेगा तब ही प्रेम हृदय में

खुद बदलें तब

चाहते हैं यदि स्वच्छ भारत अपना भारत
तो कुछ बदलने से पहले
खुद को हि बदलना होगा
जाकर मतदान केंद्र पर
मतदान करना होगा

हो ली जंग बहुत राजनीतिक दलों की
रिश्वत, चुगलखोर, निठल्लों की
जंग अब व्यक्तिगत होनी है
बदलनी है मानसिकता अपनी
नव सोच विचार करना होगा
जाकर केंद्र पर मतदान करना होगा

होगा छोड़ना भाई भतीजा वाद
छोड़नी होगी जात पात की बात
बिना रुके बिना झुके
निर्णय खुद से लेना होगा
करे जो जनहित में काम
हमे बस उसी को चुनना होगा
जाकर केंद्र पर मतदान करना होगा

यह प्रश्न नही केवल आज का
निर्भर है भविष्य समाज का
हो न जाये कठिन देना उत्तर भविष्य को
निभाना है कर्तव्य स्वयं के लिए स्वयं को
कल के बच्चों का भविष्य बचाना होगा
जाकर केंद्र पर मतदान करना होगा
कुछ बदलने से पहले
खुद को बदलना होगा

मूल धर्म

सरल नहीं है
मानवता के धर्म को
व्यवहारिक जीवन में ला पाना
धर्म के नाम पर
व्यक्तिगत मान्यताएँ हि मान्य हैं

समुदाय हो, संगठन हो, पन्थ हो
सभी की अपनी अपनी
भिन्नता है, विचारों की
जबकि मानव तो सभी एक हैं
तब उनकी सत्यता अलग कैसे
निर्माता अलग कैसे

शृष्टि एक, प्रकृति एक
निर्माण विधि एक
मौसम एक, जल, वायु एक
तब नियंता भिन्न कैसे
इस भेद की व्याख्या अलग अलग कैसे

जाने किस भ्रम में उलझे हुए
सशंकित विश्वास की धारा में
स्वयं गोते खा रहे
कहाँ तक समझा पाएंगे आम जन जीवन की समझ को
क्या हो पायेगा स्थापित कभी
धर्म मानवता का जगत में

जहाँ सनातन नहीं मज हब नहीं
कोई अन्य सत्य की मान्यता नहीं
सिर्फ मानव की मानवता
मानव मे मानव की एकता
और मानव मे मानव की विश्वस्नियता हि मूल हो

मन की मानी

कर लो मन को वश मे, तो जीत पक्की है
समझ लो कच्ची सड़क की गली भी पक्की है

मोड़ के बाद तो मिलती ही हैं खाई और घाटी
ठान लो अगर मन में, तो कामयाबी पक्की है

मन की चंचलता हि, भटकाती है हमें राह से
चलते हैं जो सोच समझकर जीत उनकी पक्की है

हर लुभावनी चीज कर लेती है प्रभावित मन को
लेते हैं काम जो बुद्धि से, इज्जत उनकी पक्की है

मन ने हि बदले हैं इतिहास कई बार अतीत में
लेते नही सीख जो विगत से, हार उनकी पक्की है

मन ने समझा हि नहीं है, परिणाम कभी कल का
चला जो केवल आज देख,मौत उसकी पक्की है

मौका

सारी कलाएँ आपके भीतर
चुन लो कला अपने मन की
कर लो सार्थक जीवन अपना
भरोसा क्या है कल के तन की

आज ही आज है आपके नाम
कौन जाने कल भी हो या न हो
छू लो नभ, नाप लो धरती चाहे
कौन जाने कल ये मौका हो न हो

है प्रयास का मुहूर्त शुभ हरदम
लगन से हि हो लगाव हरदम
जीत होगी संकल्प के साथ ही
यूं तो होती रहेगी दिन रात हरदम

साथ जायेंगे पुराने ,नये आयेंगे
सिलसिला है ये चलता ही रहेगा
करना है सफर तय सोच से अपनी
सही गलत तो जमाना कहता रहेगा

जीत के बाद पहचानते हैं लोग
देखकर ही तुम्हे मानते हैं लोग
बेयकिनी हो गया है जमाना ये
अपने मतलब को हि मानते हैं लोग

नया संकल्प

जो खो गया वह आपका था हि नही
जो चला गया वह आपके लिए था हि नहीं
जो आपका होगा वह आपको मिल हि जायेगा
जो तुम्हे पाना है
उसी के लिए जीना है

मंजिल की दिशा तय करनी होगी
राह खुद की तुम्हे हि धरनी होगी
पहली ईंट का महत्व है मकान में
हर अंधेरे से लड़ना होगा
प्रभात तक चलना होगा

जो टूट जाये वो जुड़ता कहाँ है
जो छूट जाये वो मिलता कहाँ है
अतीत मे हि घूम रहे हो क्यों
अब तो आगे बढ़िये
कुछ तो करिये

कल को छोड़ नये कल से जुड़िये
हो रही नई हलचल से जुड़िये
मिल रहे नये संबल से जुड़िये
नया संकल्प लेना होगाया
तुम्हें चलना होगा

दांव पेच

( Dav Pech )

रह गई इंसानियत जबान पर
दिल मे तो मगर जहर भरा है
चल रहे कदम शराफत की राह
दिल में मगर फितूर हि भरा है

कहने और करने मे फर्क बहुत है
सोचने और दिखावे मे फर्क बहुत है
मिलते तो हैं दौड़कर गले अपना बन
दिल के भीतर मग़र जलन बहुत है

उतावले हैं खीचने को पैर नीचे की ओर
तैयार हैं धकेलने को हर ऊँचाई से
देते हैं सहयोग भी हमदर्दी भी रखते हैं
आस्तीन मे खंजर भी छिपाये रखते हैं

हवाले मे खाते हैं सौगंध भी रिश्तों की
कसम मे भगवान् को भी नही छोड़ते
देते भी हैं दिलाते भी हैं मिशाल औरों की
अपनी हि माँ बहन को भी घसीट लेते हैं

करते हैं जतन में बहुत कुछ मगर फिर भी
बेचारे खुद मे भी सुकून कहाँ ले पाते हैं
गुजर जाती है उम्र सारी दांव पेच चलाते ही
न देते हैं जीने, और न खुद हि जी पाते हैं

पीले पत्ते

( Peele Patte )

अब हम हुए शाख के पत्ते पीले।
रह पाएंगे और कब तक गीले
बस एक हवा के झोंके आना है
थोड़ी देर तू और भी सबर कर ले

दे चुके जो दे सके हम छाया अपनी
हमे भी तो है अपनी राह पकड़नी
हमारे कमियों की खता माफ करना
दुआ है हो बढ़त हमसे दुगनी, चौगुनी

समानता किसी से किसी की नही होती
हर किसी की मंजिल एक सी नहीं होती
करते हैं सभी प्रयास अपनी क्षमता से
सफलता सभी की एक सी नही होती

हम चाहे थे तुम हमसे आगे बढ़ो
तुमने चाहा तुम्हारे तुमसे आगे बढ़ें
दस्तूर यही है सभी के जिन्दगी का
चाहता नही कौन की उचाई ना चढें

इम्तिहान की कसौटी पर है हर कोई
मिलता है वही जो बोता है हर कोई
मिल हमे भी जो कर्म थे हमने किये
मिलेगा तुम्हे भी धर्म से जो तुमने किये

गुलबदन

( Gulbadan ) 

 

निभा लो आज भले ,रवैया तुम अजनबी
आयेंगे नजर हम भी कभी,यादों के पन्ने मे

आज हैं हमराज कई,आपके सफर मे
तन्हाई के आलम मे ,हमे ही याद कर लेना

जवां चांद की रात मे,सितारे जगमगाते हैं
उतरती चांदनी मे,तारे भी नजर नहीं आते

आज हो गुल बदन गुलजारे गुलशन मे
पतझड़ मे डालियां भी पहचानी नही जाती

उड़ लो ,आकाश की अनंत ऊंचाई मे आज
सिवा जमीन के आशियाना कहीं नहीं होता

हमे तो आदत है ,कर लेंगे बेवफाई भी सहन
आएंगी याद बातें हमारी,जब हम न होंगे

 

था भी हूं भी

( Tha bhi hoon bhi ) 

 

मान अपमान की चिंता नही
लोभ नही किसी सम्मान का
अंतिम स्वांस के पहले तक
करूं कर्म धर्म और इंसान का..

खुशियां जमाने की तुम्हे ही मुबारक
तुम्हे ही हर महफिल मे हार मिले
मेरे हर शब्द मे शामिल हो मानवता
फिक्र नही ,मिले जीत या हार मिले..

पहुंच नही पाया हजारों की भीड़ तक
चंद लोग भी लाखों हैं मेरे लिए
तनहा सफर मे ही चलता रहा हूं
करूं क्यों अभिमान मैं किसके लिए..

आया था हांथ खाली,कर्म खातिर
तमन्ना है की धर्म अपना निभा सकूं
जमाने से ही मिला यह जीवन मुझे
काश!इसके खातिर ही काम आ सकूं..

है विश्वास मुझे कर्म पर मेरे
आश्वस्त हूं कर्जदार नही रहा
दे रहा वाह मेरा नही,यहीं का रहा
मैं था भी हूं भी रहूंगा भी,यही मेरा रहा..

 

कल की सोच

( Kal ki soch )

 

भले जियो न जियो तुम धर्म के लिए
धर्म के साथ तो तुम्हे जीना ही होगा
अपनाओगे नही यदि तुम सतनातन को
निश्चित ही है की बेमौत तुम्हे मरना होगा

न आयेगी काम ये सारी दौलत तुम्हारी
न मोटर न गाड़ी न कोई ये साधन सारे
आ गई हुकूमत जब किसी गैर की द्वारे
बचाने को जान अपनी भागोगे मारे मारे

कोई कह रहा है सनातन एक रोग है
कोई कह रहा है राम ही काल्पनिक हैं
कोई कह रहा तुम्हे भगवा आतंकवादी
कोई कह रहा मजहब ही वैकल्पिक है

कानों मे तेल अभी आंखों मे मैल है
रहो खामोश,कुछ दिन का ही खेल है
सिखाता नही गलत,सनातन कभी
किंतु कहता जरूर है भूलें न कर्म कभी

बीत जायेगी तुम्हारी,कुछ बच्चों की सोचो
आज है आनंद का,जरा कल की भी सोचो
हम आज हैं ,होंगे जल्द ही अतीत के घेरे मे
पर,तुम न गंवाओ इसे महज सो लेने मे

 

अटूट बंधन

( Atoot bandhan )

 

अब तक भी न समझे तुम हमे
हम भी तुम्हे कहां तक समझ पाए
समझ मे ही गुजर गई उम्र सारी
न कुछ तुम, न कुछ हम कह पाए

अलग न तुम हुए, न हम दूर गए
न कह पाने की कशिश मे रह गए
चाहत न कम थी ,किसी की कहीं
लफ्जों मे बयां हम कर नही पाए

समझते रहे तुम,नासमझ हमे सदा
जानकर भी हम ही अनजान बने रहे
तुमसे ही तुम्हारी शिकायत भली लगी
होकर भी अलग,हम एक ही बने रहे

बातें बहुत थीं,शिकायतें भी बहुत थीं
करते भी क्या,हममें मुहब्बत बहुत थी
सहते रहे खामोशी मे रहकर सभी
दिलों मे मिलने की हसरत बहुत थी

अब तो,हर पड़ाव से हम,दूर चले आए
इच्छा नही,भावनाओं का ही आलिंगन है
होंगे कभी तो हम तुम भी ,संग अपने ही
यही तो जगती मे प्रेम का अटूट बंधन है।

 

सहारा

( Sahara ) 

सहारा भी जरूरी है हर किसी के लिए
उम्मीदें भी वाजिब हैं जिंदगी के लिए

भरोसे पर ही न बैठें पर,भूलकर भी कभी
कदमों मे जान भी जरूरी है चलने के लिए

बड़े ही बेवफा हैं लोग,तसल्ली भी धोखा है
रखते हैं खयालों मे,अपने मतलब के लिए

सहारे की चाहत में,सहारा कहां मिलता है
बना लेते हैं खुद का सहारा,वो अपने लिए

रखना संभलकर कदम,जमीन दलदली है
बिछाकर रखे हैं धोखे,तुम्हे गिराने के लिए

सहारा जो होता ,तो सहारे की जरूरत न थी
बना लेते हैं बेचारा वो,सहारा बनने के लिए

 

मोहन तिवारी

 ( मुंबई )

यह भी पढ़ें :-

कुछ तो बोलो | Kuch to Bolo

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here