प्यार भरा तेरा लहज़ा
प्यार भरा तेरा लहज़ा

प्यार भरा तेरा लहज़ा

 

लगता है बस प्यार भरा तेरा लहज़ा

था ऐसा इजहार भरा तेरा लहज़ा

 

इजहार भरा हो होठों पे उल्फ़त का

न कभी हो इंकार भरा तेरा लहज़ा

 

दिल में यार उदासी छायी है मेरे

तल्ख़े था वो यार भरा तेरा लहज़ा

 

इंकार नहीं हो  तेरी बातों में ही

हो बस ये इक़रार भरा तेरा लहज़ा

 

नफ़रत के न इशारे हो आंखों में ही

उल्फ़त हो बस वार भरा तेरा लहज़ा

 

प्यार भरा रख रिश्ता मुझसे जीवन भर

अच्छा नहीं तकरार भरा तेरा लहज़ा

 

बातें मत करना आज़म से तल्ख़ ज़ुबां

लब पे हो बस प्यार भरा तेरा लहज़ा

 

✏

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : 

मानो मेरी बात देखो दिल सुधर जा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here