वो आंखें जो आज़म इधर होती!
वो आंखें जो आज़म इधर होती!

वो आंखें जो आज़म इधर होती!

 

 

वो आंखें जो आज़म इधर होती!

प्यार की फ़िर उससे नज़र होती

 

दिल को मेरे क़रार आ जाता

हाँ अगर जो उसकी ख़बर होती

 

अंजुमन से चला गया उठकर

 प्यार की कुछ  बातें मगर होती

 

यूं न होते अंधेरे ग़म के फ़िर

जीस्त में खुशियों की सहर होती

 

वो न करती दग़ा मुहब्बत में

आहें दिल में न उम्रभर होती

 

जीवन में भेज दे हंसी कोई

रब अकेले न रह गुज़र  होती

 

आती है बस नजर तन्हाई ही

मेरी आंखें आज़म  जिधर होती

 

 

✏

शायर: आज़म नैय्यर

(सहारनपुर )

यह भी पढ़ें : 

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here