दुनिया
दुनिया

दुनिया

( Duniya )

 

है  कितनी  आभासी  दुनिया,

कुछ ताजी कुछ बासी दुनिया।

 

किसी की खातिर बहुत बड़ी है,

मेरे  लिए   जरा  सी  दुनिया।

 

युगों-युगों  से  परिवर्तित है,

फिर भी है अविनाशी दुनिया।

 

चमक  दमक के पीछे भागे,

हैं दौलत की प्यासी दुनिया।

 

सबको शिकायत है दुनिया से,

फिर भी काबा-काशी दुनिया।

 

कहीं  रौनकें, खुशहाली है,

कहीं दर्द की दासी दुनिया।

 

हमने इसकी शक्ल बिगाड़ी,

थी जो अच्छी खासी दुनिया।

 

संस्कार को भूलके अब तो,

भोगी बनी विलासी दुनिया।

 

✍️

कवि बिनोद बेगाना

जमशेदपुर, झारखंड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here