कविता
कविता

कविता क्या है 

( Kavita Kya Hai )

 

आज कविता दिवस है इसका नहीं था मुझे ध्यान
मेरे मित्र ने याद करा कर मुझे कराया अभिज्ञान

 

कविता क्या है कुछ कविता के बारे में लिखो
केवल  चार  पंक्तियां ही नहीं कुछ और लिखो

 

मैंने   भी   सोचा   पहले   कवि  है  या  कविता  है
या कविता द्वारा कवि है मुझको यह जानना अभी है

 

तब मैंने भी कविता के बारे में लिखना किया शुरू
दस  मिनट  में  ही  मुझे  यह  ज्ञान  दिया  गुरु

 

फिर मैं कुछ लिख पाया कविता क्या है यह सीख पाया
कविता  सुर  है  साज है जीवन का कविता हर राज है

 

यह गीत है नई नीति है प्रेमियों के दिल की प्रीत है
दिलों   को   भाने   वाली   सुर   और   संगीत  है

 

कविता   जीवन   की   तान   है  विरह  का  बान  है
मिलन की मस्ती है प्रेम को समझने का दिव्य ज्ञान है

 

कविता कवि की कल्पना है जीवन की संकल्पना है
जीवन  में  मिलने  वाला  हर  दुख दर्द ही अपना है

 

कविता जीवन का अंग है कभी ना उड़ने वाला रंग है
दो   प्रेमियों   के   बीच  उठने  वाली  नई  उमंग  है

 

कविता  प्रक्रति  श्रृंगार  है  जीने  का हर आधार है
पल-पल अनुभव करने वाला जीवन का व्यवहार है

 

भाषा की शान है कविता  हिंदी की जान है कविता

तन मन और जीवन ‘रूप’की पहचान है कविता

 

?

कवि : रुपेश कुमार यादव ” रूप ”
औराई, भदोही
( उत्तर प्रदेश।)

यह भी पढ़ें :

Bhojpuri Vyang | प्रधानी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here