सितारे तोङ लाते है हमेशा आसमां से वो
सितारे तोङ लाते है हमेशा आसमां से वो

सितारे तोङ लाते है हमेशा आसमां से वो

( Sitare Tore Late Hain Hamesha Aasman Se Wo )

सितारे तोङ लाते है हमेशा आसमां से वो।।

नहीं डरते मुसीबत से रहे आगे जहां से वो।।

 

जो करना है वही करते नहीं सुनते किसी की भी।

जिग़र में हौंसला पाते खुदा जाने कहां से वो।।

 

निभाते ख़ार से बेशक गुलों से दोस्ती रखते।

नज़र आते यहां अक्सर हो मानो बागबां से वो।।

 

किसी के आसरे रहते न तकते है सहारा ही।

रहे जग में सदा बनकर खुदी के पासबां से वो।।

 

बहुत किस्से सुनाते है जहां भर में बशर उनके।

नहीं कमतर कभी होते किसी भी दास्तां से वो।।

 

दिलों पे राज करते लोग, एहतराम करते सब।

“कुमार” दिलकश नज़रआते जहां में कहकशां से वो।।

 

 

?

 

कवि व शायर: Ⓜ मुनीश कुमार “कुमार”
(हिंदी लैक्चरर )
GSS School ढाठरथ
जींद (हरियाणा)

यह भी पढ़ें : 

बहुत हमको लुभाती है यहां सूरत कोई भोली

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here