बेटी
बेटी

बेटी

( Beti )

 

बेटी- है तो, माँ के अरमान है,
बेटी- है तो, पिता को अभिमान है!
बेटी- है तो, राखी का महत्त्व है,
बेटी- है तो, मायका शब्द है!

 

बेटी- है तो, डोली है,
बेटी- है तो, बागों के झुले हैं!
बेटी- है तो, ननद- भाभी की ठिठोली है!
बेटी- है तो, घर- संसार है,
बेटी- है तो, चौखट और द्वार है!

 

बेटी- है तो, शहनाई है,
बेटी- है तो, पायल की झंकार है!
बेटी- है तो, बहु के आने का इंतजार है!
बेटी- है तो, पिता ,भाई, पति, बेटा शब्द है!

 

बेटी- है तो, श्रृंगार है मेहंदी है,
बेटी- है तो, तीज त्योहार है!
बेटी- है तो, नखरें हैं, खट्टी अमिया है!
बेटी- है तो, दो  परिवार के बीच मजबूत संबंध है!

 

बेटी- है तो, खनकती हँसी है,
बेटी- है तो, गूंजती किलकारी है!
बेटी- है तो, तुलसी है, आंगन है,
बेटी- है तो, चौका है, पकवान है!
बेटी- है तो, प्रेम शब्द की उपस्थिति है!

 

बेटी- है तो, नारी शब्द है,
बेटी- है तो, हर घर में रिश्तों का रूप है!
बेटी- है तो, माँ, बहन, बेटी,बहु, सास, स्वरूप हैं!
बेटी- बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ,
          क्योंकि?…
बेटी- है तो, सारा संसार है!

 

?

कवयित्री :- श्वेता कर्ण

पटना ( बिहार)

यह भी पढ़ें : –

साहिल- तेरे लिए | Hindi Ghazal

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here