लफ़्ज़ों में भावनाओं की अभिव्यक्ति
लफ़्ज़ों में भावनाओं की अभिव्यक्ति

कई कई अर्थ लिए कुछ लफ़्ज़ों में भावनाओं की अभिव्यक्ति

1.   जुबाँ है पर आवाज नहीं,

        और खामोशी में भी बातें हैं !

        जुबाँ हो के भी गूंगी हो गई,

        खामोश हो सब कुछ कर गई !!

2.   यूँ तो जिंदगी है

        पर हो कर भी नही है !

       यूँ तो ये हकीकत है,

        पर हकीकत ये हकीकत नही..!!

3 . ऐ खुदा जिंदगी दी है तो

        जीने की ख़्वाहिश भी दे दे,

         कुछ मक़सद दे दो,

         कुछ खुशी दे दो ..

         कुछ सपने, कुछ उम्मीदें,

         और इच्छा जीने की दे दो,

         ऐ खुदा ज़िन्दगी दे दो ..!!

4.    ऐ खुदा ज़िंदगी दे दो

          जीने का मक़सद दे दो

          हसरतें दे दो, ख्वाहिशें दे दो

          उम्मीदें दे दो, विश्वास दे दो,

          ज़िंदगी दिए हो..

          ज़िन्दगी दे दो ।।

          मुझे इस दुनिया मे

           जीना सिखा दो।  !!

 

ईवा ( Tha real soul ) की ये लाइने हर किसी की से जुड़ी हुई लग सकती है ….”कई कई अर्थ लिए कुछ लफ़्ज़ों में भावनाओं की अभिव्यक्ति”, इन लाइनों का हर कोई अपने सोच / नजरिये के अनुसार अर्थ निकाल सकता है या जिंदगी को जोड़ सकता है !!!

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here