Home कविताएँ

कविताएँ

बाल मजदूरी

बाल मजदूरी   खुद असमर्थ बनकर बच्चों से कराते मजदूरी। अगर कोई उठाये सवाल कहते यह हमारी मजबूरी।   बच्चे न माने तो  दिखाए चाकू छुरी। उनके उज्जवल भविष्य से खिलवाड़ कर कराते उनसे...

🦋 “आसमान” 🦋

🦋 "आसमान" 🦋  ✨ --> आसमान सा बनकर देखो || ✨ 1.आसमान कितना प्यारा, फैला चारो ओर है | रंग-बिरंगी छटा बटोरे, मेघों का पुरजोर है | दिन में सूरज...

हिम्मत रख मुश्किलों का सामना करते जाओ

हिम्मत रख मुश्किलों का सामना करते जाओ   हिम्मत और हौसले के दम से कुछ भी मुमkकिन हो जाता है  जरूरत बस हिम्मत के साथ दो कदम...

मदांध हो ना करें कोई चर्चा !

मदांध हो ना करें कोई चर्चा ! ***** चर्चा की जब भी हो शुरुआत, टाॅपिक हो कुछ खास । समसामयिक मुद्दे हों या हो इतिहास/विज्ञान की बात! बारी बारी से...

गरीबी ने बचाई लाखों की जान !

गरीबी ने बचाई लाखों की जान ! ******* गरीबी ने गरीबों को बचाया? इसी ने कोरोना को है हराया। यह मैं नहीं विशेषज्ञ कह रहे हैं, गरीब देशों में...

ऐ चीन ! तुझे न छोड़ेंगे

ऐ चीन ! तुझे न छोड़ेंगे ***** बदला लेंगे हम, छोड़ेंगे न हम। भूले हैं न हम, भूलेंगे न हम। खायी है कसम, तोड़ेंगे गर्दन। करेंगे मानमर्दन , प्रतिशोध लेंगे हम। याद है !...

🐾 बदल गया है 🐾

🐾 बदल गया है 🐾 💧 बदल गया है लोगों के रहने का,चलने का खाने का, पीने का उठने का,बैठने का एक-दूसरे मिलने का साथ-साथ चलने का ढंग.............। 💧 बदल गया है लोगों के सड़क...

मधुरिम अहसास

मधुरिम अहसास तुम समझते हो मेरी इस पीर को क्या वह सुखद अहसास बासन्ती सुमन वह कूल कालिंदी कदम तरु का मिलन वह कुछ अनकहे से अनछुये अहसास...

बरसात आ गई

" बरसात आ गई " बरसात आ गई.........|| 1.बरसात आ गई, सारे मेढकों की मौज हो गई | टर्र-टर्र की आवाज, सुन्दर सुर की खोज हो गई...

आना किसी दिन

आना किसी दिन   किसी दिन आना और पास आकर दिल से पूछना... कि दोस्त....... क्या रंज है तुम्हें.....? नाराज़ हो क्या....? किस बात से ख़फ़ा हो.....? मुझसे रुसवा क्यूँ हो.......? अब तुम दूर...