Home कविताएँ

कविताएँ

°°° इन्द्र का दर्प °°°

इन्द्र... हाँ ! इन्द्र, आज फिर क्रूध हो चुका है ! डुबोना चाहता है सारी धरती ! क्योंकि इन्होंने चुनौती दी है, उसके ऐश्वर्य एवं सत्ता को ! डूबने को...

😠 हम मजबूर हैं  😠

😠 हम मजबूर हैं  😠 साहब! हम मजदूर हैं इसीलिए तो मजबूर हैं सिर पर बोझा रख कर खाली पेट,पानी पीकर हजारों मील घर से दूर गोद में बच्चों को...

°° कोरोना का रोना °°

  --> कोरोना का रोना है , हाँ हाँ कार मची है दुनियां मे || 1.कोरोना वायरस फैल रहा,जाने कैसी बीमारी है | रोका नहीं गया इसको...

🌸 धरोहर 🌸

🌸 धरोहर 🌸   ->बड़ी सुरक्षित हैं मेरे पास , तेरी धरोहर . . . . ॥ 🌸 1 .समेटकर रखी है मैंने , तेरी सारी यादों को...

°°°°°°°°°हिन्दी °°°°°°°°

-->हिन्दुस्तान के हिन्दी हैं हम .........|| १.बड़ी मधुर मीठी है ,सुन्दर है सुरीली है | दिल को छू लेने वाली,नाजुक और लचीली है | हर हिंदुस्तानी की...

मुझे उड़ने दो

मुझे उड़ने दो मैं तितली हूं.. मुझे उड़ने दो ।  मुझे मत रोको, मुझे मत टोको,  मुझे नील गगन  की सैर करने दो ।। मेरे पंखों को मत कतरो, मेरे हौसलों को...

🌸 मदर्स डे 🌸

  🌸 मदर्स डे 🌸 मां अपने बच्चों से रूठती ही कब है बच्चे भले ही रुठ जाएं पर, मां क्या कभी रूठती है? 🍀 #मदर्स डे साहब!आजकल कौन मना रहे...

👏 हे सरकार ! कुछ तो करो 👏

  👏 हे सरकार ! कुछ तो करो 👏 🌿 हे सरकार! कुछ तो करो क्यूँ छोड़ दिया मरने को सड़कों और पटरियों पर दर-दर की ठोकरें खाने को खाने...

🍁 समय चुराएं 🍁

🍁 समय चुराएं 🍁 आओ ... समय से कुछ समय चुराएं शुन्य के सागर में गुम हो जाएं 🌸 बीती बातों का हिसाब करें आने वाले पलों का इंतज़ार करें भूली...

मेरी इच्छा

मेरी इच्छा काश हवा में हम भी उड़ते तितलियों से बातें करते नील गगन की सैर करते