ग़म से कभी मैं यूं ही, परेशान नहीं होता 
ग़म से कभी मैं यूं ही, परेशान नहीं होता 

ग़म से कभी मैं यूं ही, परेशान नहीं होता 

 

दिल जो कि ख़ुशी से मेरा, वीरान नहीं होता,

ग़म से कभी मैं यूं ही, परेशान नहीं होता

 

इबादत अगर जो करते, तुम सब ही ए लोगों,

नाराज़ फिर सभी से वो, भगवान नहीं होता ।

 

कि लोग बस्ती में भूखे, मर जाते  यहां यारों,

खाने को गर रोटी औ” सामान नहीं होता ।

 

बेअदबी यदि मेरे साथ होती ना उल्फ़त में,

कि दिल में नफ़रत का उठा, तूफान नहीं होता ।

 

वरना मिटा देता मैं वो, आज सभी दुश्मन ही,

यदि रोकने का मिला अब, फ़रमान नहीं होता ।

 

इक़रार-,ए-मुहब्बत मत करना, किसी से कभी,

उल्फ़त का सफ़र इतना तो, आसान नहीं होता ।

 

सब लोग रहें मिलकर आज़म, मुहब्बत से यारों,

इंसान का रकीब कभी भी इंसान नहीं होता ।

 

 

✒️

 

 

शायर: आज़म नैय्यर

( सहारनपुर )

 

यह भी पढ़ें : इतना बड़ा पत्थर दिल नहीं है !

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here