Pagal Bhojpuri kavita
Pagal Bhojpuri kavita

” पागल “

( Pagal ) 

 

दरद के आग बा ओके दिल में, रोये ला दिन रात
देख- देख के लोग कहेला, पागल जाता बडबडात

 

रहे उ सिधा साधा, माने सबके बात
लूट लेलक दुनिया ओके, कह के आपन जात

 

आज ना कवनो बेटा-बेटी, नाही कवनो जमात
नाही पाकिट में एगो रोपया, रहे कबो अफरात

 

रहे उ अन्याय के विरोधी, हर दम क‌इलक इंसाफ
नाही कबो केहू से डरें उ, मुंह पे करें बात

 

इ चिज़ ना दुनिया के भाइल, देलक अ्इसन मार
चोट ओके अ्इसन लागल, घुमेला पगलात ।

 

कवि – उदय शंकर “प्रसाद”
पूर्व सहायक प्रोफेसर (फ्रेंच विभाग), तमिलनाडु

YouTube video

??

उपरोक्त कविता सुनने के लिए ऊपर के लिंक को क्लिक करे
यह भी पढ़ें:-

मजबूर | Bhojpuri kavita majboor

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here