Home शेरो-शायरी

शेरो-शायरी

दिल के घावों को कहां लोग समझ पाते है

दिल के घावों को कहां लोग समझ पाते है   दिल के घावों को कहां लोग समझ पाते है। देख के भी नज़र फेर चले जाते हैं।।   जख़्म...

हाँ बड़ा देखो खफ़ा अल्लाह है !

हाँ बड़ा देखो खफ़ा अल्लाह है !   हाँ बड़ा देखो खफ़ा अल्लाह है ! जब दिलों से ही जुदा अल्लाह है   की इबादत दिल से ही कर...

हरे है ज़ख़्म अब तक भी दिलों पे दाग़ है बाकी

हरे है ज़ख़्म अब तक भी दिलों पे दाग़ है बाकी     हरे है ज़ख़्म अब तक भी दिलों पे दाग़ है बाकी। धुआँ- सा उठ रहा...

कौन समझे यहां पर जुबां प्यार की।

कौन समझे यहां पर जुबां प्यार की।   कौन समझे यहां पर जुबां प्यार की। रौनकें खो गई सारी गुलजार की।।   हर तरफ तल्खियों का है मौसम सदा। छा...

मन मानता नहीं !

मन मानता नहीं !   उसी से मिलनें को मन मानता नहीं! मुहब्बत से वही जब बोलता  नहीं   वही ऐसे गुजरा है  पास से मेरे मुझे  जैसे वही के...

मुझे मुहब्बत की वह ज़माना याद है

मुझे मुहब्बत की वह ज़माना याद है     मुझे मुहब्बत की वह ज़माना याद है तुम्हारा हम से रूठ जाना याद है   तुम्हे याद हो के ना उसका...

जब भी मिला तो आँख मिलाकर नहीं मिला

जब भी मिला तो आँख मिलाकर नहीं मिला     जब भी मिला तो आँख मिलाकर नहीं मिला दुश्मन भी मेरे कद के बराबर नहीं मिला   घर उसका मिल...

खेलते थे गांव में कंचे बहुत

खेलते थे गांव में कंचे बहुत   खेलते थे गांव में गुल्ली डंडा कंचे बहुत शहर में नफ़रत मिली है खेलने को देखिए   गांव में है प्यार मेरे...

इश्क फरमाना नहीं आता

इश्क फरमाना नहीं आता     मुसलसल अश्क अगर जो बरसाना नहीं आता। तो समझो आपको फिर इश्क फरमाना नही आता।   पशीना पाँव का सर तक जब पहुँच जाता...

°° आजकल के नेता °°

आजकल के नेता ये वादे तो रोज करते हैं, मगर फिर भूल जाते हैं ।  ये ऐसे दोस्त हैं जो पीठ पर खंजर चुभाते हैं ! करेंगे सब की...