मैं तेरा हो जाऊं
मैं तेरा हो जाऊं

मैं तेरा हो जाऊं

( Main Tera Ho Jaoon )

 

तेरी बाहों में सर रख कर सो जाऊँ;
तेरे हंसी खाबों में फिर से खो जाऊँ ।

 

हम भी बड़े बेताब हैं तेरे दिल में रहने को,
तू प्यार से बुला मुझे,मैं अंदर तभी तो आऊँ ।

 

तुझे हक़ से दुनिया वालों से माँग ही लूँगा,
बस, पहले ज़माने की नजर में कुछ हो जाऊँ।

 

हर वक्त मेरे ही ख़्याल पैदा हो तेरे ज़हनो-दिल में,
तेरी यादों में अहसासों के कुछ मीठे बीज बो जाऊँ ।

 

अब तो दिन-रात यही फ़रियाद करता है दीप,
ता क़यामत तू मेरी हो जाए ,मैं तेरा हो जाऊँ।

 

 

🐾

कवि : संदीप कटारिया

(करनाल ,हरियाणा)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here