होम 2022 मई

मासिक आर्काइव: मई 2022

फुरसत मिली | Poem fursat mili

फुरसत मिली ( Fursat mili )   फुरसत मिली, पढ़ लूं तहरीरें लिखी जो पानियों ने पानी पर सुना है जनमों से सब्र लिये बहता है कोई आबशार किसी के...

दिव्य भूमि | Kavita divya bhumi

1.दिव्य भूमि   दिव्य भूमि साकेत जहाँ पर, राम ने जन्म लिया था। कलयुग में वो भाग्य पे अपने, जार जार रोया था।   सृष्टि के साथ ही उदित...

मुझे हक है | Poem Mujhe Haq Hai

 मुझे हक है ( Mujhe Haq Hai )   दिल के सारे राज जानूं कैसी दिल की धड़कन है। मनमंदिर में पूजन कर लूं दीपक ले मेरा मन...

सारा आकाश हमारा है | Kavita sara akash hamara hai

सारा आकाश हमारा है ( Sara akash hamara hai )     उत्साह उमंगे उर भर लो सुंदर सारा नजारा है साहस भरकर देख लो सारा आकाश हमारा है   बुलंदियों...

मर्यादा | Muktak maryada

मर्यादा ( Maryada )   सत्य शील सद्भावो के जग में फूल खिलाना है प्यार के मोती अनमोल खुशियों का खजाना है मर्यादा पालक रामचंद्र जी महापुरुष कहलाए पावन वो...

बिछा लो प्रेम की चादर | Kavita bichha lo prem ki...

बिछा लो प्रेम की चादर ( Bichha lo prem ki chadar )     बिछा सकते हो तो बिछा लो प्यार की चादर। गोद में पलकर हुए बड़े...

म्हारो गांव अलबेलो | Marwadi poem

म्हारो गांव अलबेलो ( Mharo gaon albelo )   ठंडी ठंडी भाळ चालै चालो म्हारा खेत म काकड़िया मतीरा खास्यां बैठ बालू रेत म   पगडंडी उबड़ खाबड़ थोड़ा सा...

रखवारे राम दुलारे | Bhajan Rakhware Ram Dulare

रखवारे राम दुलारे ( Rakhware Ram Dulare )     रखवारे रखवारे, हे हनुमत राम दुलारे। अंजनी के लाला आजा, आजा हनुमान प्यारे। रखवारे रखवारे -2   गिरि द्रोण संजीवनी लाए, लक्ष्मण...

ताजमहल | Kavita Taj Mahal

ताजमहल ( Taj Mahal ) बेगम मुमताज की याद में ताजमहल बनवाया। शाहजहां बादशाह ने दुनिया को प्रेम दिखाया।   आगरा में आकर देखो संगमरमर का महल। कलाकृतियां बेमिसाल प्रसिद्ध...

इतना भी मत शोर मचाओ | Poem itna bhi mat shor...

इतना भी मत शोर मचाओ ( Itna bhi mat shor machao )   इतना भी मत शोर मचाओ, शहरों में। सच दब कर रह जाये न यूँ, कहरों...