Bhojpuri Kavita | Bhojpuri Poetry -बात मानीं देवर जी

बात मानीं देवर जी! ( Baat Mani Devar Jee Bhojpuri Kavita ) ***** (भोजपुरी भाषा में) ------------------------ चाल ऊहे बा ढाल ऊहे बा ऊहे बा अबहूं तेवर बदल गइल बा अब त#...

हे प्रभु | Hey Prabhu Bhojpuri Kavita

हे प्रभु! ( Hey Prabhu )    मिटा द मन के लोभ सब कुछ पावे के जे हमरा लागल बा दिल पे चोट हे प्रभु! मिटा द मन के लोभ दे सकऽ...

लड़कपन | Ladakpan par Bhojpuri kavita

लड़कपन ( Ladakpan )   देखऽ-देखऽ ठेला वाला आइल ओपे धर के मिठाई लाइल दु प‌इसा निकाल के देदऽ जवन मन करे मिठाई लेलऽ खुरमा खाजा रसगुल्ला राजा इमरति अउर चन्दकला बा...

मिठ्ठा | Miththa Bhojpuri Kavita

मिठ्ठा ( Miththa )   मिठ्ठा के गोली, भेल्ली कहाला क‌ई गो दवाई में, काम आ जाला गनना के रस पाक के भेलली हो जाला चना के साथ सबेरे खोजाला गोर...

बेचारा | Bechar Bhojpuri Kavita

बेचारा ( Bechara )   जब से गरीबी के चपेट में आइल भूख, दर्द, इच्छा सब कुछ मराइल खेलें कुदे के उम्र में जूठा थाली सबके मजाइल का गलती, केके क‌इलक...

पहचान | Pahchan par Bhojpuri Kavita

पहचान ( Pahchan )    हम बिगड़ ग‌इल होती गुरु जी जे ना मरले होते बाबु जी जे ना डटले होते भ‌इया जे ना हमके समझ‌इते आवारा रूप में हमके प‌इते बहिन...

कलयुग | Kalyug par Bhojpuri Kavita

" कलयुग " ( Kalyug )   धधक-धधक अब धधक रहल बा चिंगारी अब भड़क रहल बा लोगन में बा फुटल गुस्सा हर जान अब तड़प रहल बा कहीं आवाज अउर...

रोटि | Roti par Bhojpuri Kavita

" रोटि " ( Roti )    बड़ी अजीब दुनिया बा रोटी उजर तावा करिया बा केहु पकावे केहु खाये कुर्सी पे ब‌इठ हाथ हिलाये जे पकाय जरल खाये सुन्दर रोटी कुर्सी...

मजबूर | Bhojpuri kavita majboor

मजबूर ( Majboor )   खुन के छिट्टा पडल, अउर पागल हो ग‌इल ना कवनो जुर्म क‌इलक, कवन दुनिया में खो ग‌इल जब तक उ रहे दिवाना, शान अउर...

भारत भोजपुरी कविता | Bharat par Bhojpuri Kavita

भारत भोजपुरी कविता ( Bharat Bhojpuri Kavita )   भारत देश हमार, जेके रुप माई समान चेहरा काशमीर, मुडी हिमालय मुकुट के पहचान बायां हाथ अरु, आसाम मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम,...